भारत सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी पी के बनर्जी का निधन, काफी लम्बे समय से गंभीर बीमार थे ग्रसित!

0
11

दोस्तों खेल जगत से एक बहुत बुरी खबर सामने आ रही है बता दे की साल 1962 के एशियन गेम्स में भारत को फुटबॉल का गोल्ड दिलाने वाले पीके. बनर्जी की शुक्रवार को 83 साल की उम्र में कोलकाता के मेडिका सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल में उनका निधन हो गया। वह 83 साल के थे। बनर्जी के परिवार में उनकी बेटी पाउला और पूर्णा हैं। उनके छोटा भाई प्रसून बनर्जी तृणमूल कांग्रेस से सांसद है।

भारत सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी पी के बनर्जी का निधन, काफी लम्बे समय से गंभीर बीमार थे ग्रसित! 1

एशियाई खेल 1962 के स्वर्ण पदक विजेता बनर्जी भारतीय फुटबॉल के स्वर्णिम दौर के साक्षी रहे हैं। वह पिछले कुछ समय से निमोनिया के कारण श्वास की बीमारी से जूझ रहे थे। उन्हें पार्किंसन, दिल की बीमारी और डिम्नेशिया भी था। वह दो मार्च से अस्पताल में लाइफ सपोर्ट पर थे। उन्होंने रात 12 बजकर 40 मिनट पर आखिरी सांस ली।

भारत सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी पी के बनर्जी का निधन, काफी लम्बे समय से गंभीर बीमार थे ग्रसित! 2

1997 में इन्हीं की कोचिंग में फेडरेशन कप सेमीफाइनल में रिकॉर्ड 1 लाख 31 हजार लोग साल्ट लेक स्टेडियम में ईस्ट बंगाल और मोहन बागान के बीच मैच देखने आए। फुटबॉल इतिहास में आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ जब इतने सारे लोग एक मैच को देखने के लिए आए हों। इस मैच में ईस्ट बंगाल ने मोहन बागान को 4-1 से हराया था।

भारत सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी पी के बनर्जी का निधन, काफी लम्बे समय से गंभीर बीमार थे ग्रसित! 3

बता दे की अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संघ ने उन्हें 20वीं शताब्दी में भारत का सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी घोषित किया था। फीफा ने 2004 में उन्हें ऑर्डर ऑफ मेरिट दिया था। मोहन बागान ने उनके कोच रहते आईएफए शील्ड, रोवर्स कप और डूरंड कप जीता। ईस्ट बंगाल ने उनके कोच रहते फेडरेशन कप 1997 के सेमीफाइनल में चिर प्रतिद्वंद्वी को हराया।