सोनू सूद ने बस और प्लेन के बाद ट्रैन से लोगो की मदद, 800 मजदूरों को किया उत्तर प्रदेश के लिए ट्रैन से रवाना!

0
4

दोस्तों देश में फैली कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन में फसे प्रवासी मजदूरों को बसों के जरिए मुम्बई से देश के विभिन्न राज्यों में पहुंचाकर अभिनेता सोनू सूदन मजदूरों के मसीहा बन गए है, बता दें कि सोनू सूद और नीति गोयल ने शुक्रवार के दिन केरल के एर्नाकुलम में फंसी उड़ीसा की 177 लड़कियों को एक विशेष विमान‌ से भुवनेश्वर पहुंचाया था। इसके लिए बंगलुरू से एक विमान खासतौर पर कोच्चि लाया गया था।- वही अब उन्होंने ट्रेन का सहारा लेकर लोगो को उनके घरो तक पहुंचने की तैयारी कर ली है।

सोनू सूद ने बस और प्लेन के बाद ट्रैन से लोगो की मदद, 800 मजदूरों को किया उत्तर प्रदेश के लिए ट्रैन से रवाना! 1

सोनू सूद ने बस और प्लेन के बाद ट्रैन से लोगो की मदद, 800 मजदूरों को किया उत्तर प्रदेश के लिए ट्रैन से रवाना! 2
बता दी की सोनू सू्द ने‌ रविवार की रात को मुम्बई से सटे ठाणे से श्रमिक ट्रेन के जरिए 800 से ज्यादा श्रमिकों और उनके परिवार के सदस्यों को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद), आजमगढ़, जौनपुर औए हाजीपुर के लिए रवाना किया। बता दे की जिस तरह प्रवासी मजदूरों को बसों से रवानगी के वक्त खुद सोनू सूद भी मौजूद रहते हैं, उसी तरह ट्रेन से मजदूरों की रवानगी के वक्त भी खुद सोनू ठाणे स्टेशन पर मौजूद थे।

सोनू सूद ने बस और प्लेन के बाद ट्रैन से लोगो की मदद, 800 मजदूरों को किया उत्तर प्रदेश के लिए ट्रैन से रवाना! 3

 

35 साल पुराने चैरीटी ट्रस्ट के जरिए सोनू सूद के साथ मिलकर प्रवासी मजदूरों को गांवों की ओर भेजने वाली नीति गोयल ने खास बातचीत करते हुए बताया, “दरअसल हम अपने ट्रस्ट के माध्यम से इकट्ठा हुए पैसों से प्रवासी मजदूरों को उनके गांव भेज रहे हैं, लेकिन ठाणे से श्रमिक ट्रेन में सवार मजदूरों का खर्च खुद रेलवे ने उठाया।लेकिन ट्रेन‌ से गये यह वही मजदूर‌ हैं, जिन्हें हम बसों के जरिए भेजनी की तैयारी कर रहे थे।”

सोनू सूद ने बस और प्लेन के बाद ट्रैन से लोगो की मदद, 800 मजदूरों को किया उत्तर प्रदेश के लिए ट्रैन से रवाना! 4

नीति ने आगे बताया, “हमें मुम्बई से रवाना होनेवाली श्रमिक ट्रेनों के इंचार्ज सीबी सालुंके यह कहते हुए सामने से फोन आया था कि आज (रविवार को) श्रमिक ट्रेनें छोड़े जाने का आखिरी दिन है और ऐसे में हम चाहें तो बसों से भेजे जानेवाले मजदूरों को श्रमिक ट्रेन से रवाना कर सकते हैं। सामने से आये इस प्रस्ताव पर हमने फौरन हामी भर दी।”