म‍िल‍िंद सोमन ने मेड इन चाइना का इस मजेदार अंदाज़ में किया विरोध , तेज़ी से वायरल हो रहा ट्वीट!

0
22

दोस्तों कोरोना वायरस के फैलने के बाद से पडोशी दे चीन की काफी आलोचन हो रही है, और देश में इससे जुडी चीजों का बहिष्कार करने की मांग की जा रही है, सोशल मीडिया पर कई लोग चाइनीज चीजों का बहिष्कार करने को लेकर ट्वीट कर रहे हैं।मिलिंद सोमन फिटनेस और शरीर का काफी ध्यान रखते साथ ही उन्हें अपने देश का भी खयाल है। चाइनीज चीजों का सोशल मीडिया पर जबरदस्त बॉयकॉट चल रहा है। इंटरनेट पर #BoycottChineseProducts ट्रेंडिंग है। अब मिलिंद सोमन काफी बढ़िया ट्वीट किया है जो देश और हेल्थ दोनों के लिए उपयोगी हैं।

म‍िल‍िंद सोमन ने मेड इन चाइना का इस मजेदार अंदाज़ में किया विरोध , तेज़ी से वायरल हो रहा ट्वीट! 7

बीते कई महीनों से भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है। चीन की घटिया हरकतों से नाराज भारतीयों ने इसका विरोध शुरू किया है। इसी बीच मिलिंद सोमन के एक ट्वीट ने सबका ध्यान खींचा। मिलिंद सोमन ने ट्वीट कर लिखा- शरीर एवं राष्ट्र…. दोनों को स्वस्थ रखने का… एक ही उपाय है, ” चीनी बंद ” शरीर के लिए “देसी गुड” और राष्ट्र के लिए “देसी Goods”#SonamWangchuk #BoycottMadeInChina।

म‍िल‍िंद सोमन ने मेड इन चाइना का इस मजेदार अंदाज़ में किया विरोध , तेज़ी से वायरल हो रहा ट्वीट! 8

इंजीनियर और शिक्षाविद वांगचुक ने कुछ दिन पहले ट्वीट किया था कि भारतीयों को मेड इन चाइना प्रोडक्ट्स का बहिष्कार करना चाहिए। उन्होंने चीन को जवाब देते हुए वीडियो में कहा था कि नागरिकों को वैलेट पॉवर से चीन को जवाब देना चाहिए। शिक्षाविद सोनम वांगचुक के टिकटॉक का विरोध करने वाले वीडियो को रीट्वीट करते हुए मिलिंद ने यह भी बताया कि वह अब टिकटॉक यूज नहीं कर रहे।

म‍िल‍िंद सोमन ने मेड इन चाइना का इस मजेदार अंदाज़ में किया विरोध , तेज़ी से वायरल हो रहा ट्वीट! 9

बता दें कि चीन के विरोध में लोगों ने फोन से चाइनीज ऐप्स हटाने शुरू कर दिए थे। भारत की जयपुर बेस्ड एक लैब ने ऐसा ऐप भी तैयार कर लिया था जो चाइनीज ऐप्स को हाइलाइट करके उन्हें डिलीट करने में मदद करता है। हालांकि गूगल ने इस ‘रिमूव चाइना ऐप्स’ नाम के ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया है। बीती मई भर में यह ऐप 5 मिलियन बार डाउनलोड किया गया था। रिपोर्ट्स की मानें तो गूगल ने डिसिप्टिव बिहेवियर पॉलिसी के वॉयेलशन के चलते इसे हटाया है। वहीं ऐप बनाने वालों का कहना है कि यह सिर्फ ‘एजुकेशनल पर्पज’ के लिए था।