देश में बिना खेले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाला ये खिलाडी आज कर रहा स्कूल में नौकरी!

0
57

क्रिकेट की दुनिया में एक से बढ़ कर एक बड़े खिलाडी हुए लेकिन एक ऐसे खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने मैदान पर इस तरह कदम रखा था जिसके बाद ऐसा लगा मानो वो अपनी टीम के सबसे बड़े मैच विनर साबित होंगे लेकिन उनका करियर उतना अच्छा नहीं रहा। उन्होंने मैदान में खूब संघर्ष किया लेकिन वो इंटरनेशनल क्रिकेट के कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए और उनका करियर खत्म हो गया। आज आपको उस खिलाडी के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपने देश में बिना घरेलू क्रिकेट खेले ही उसकी टीम में सेलेक्ट हो गया और उसने सचिन तेंदुलकर जैसे बल्लेबाज को शतक बनाने से रोका लेकिन आज वो ही खिलाड़ी एक स्कूल में नौकरी करता है।

देश में बिना खेले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाला ये खिलाडी आज कर रहा स्कूल में नौकरी! 9

90 के दशक में जिम्बाब्वे की टीम में व्हिटल भाई खेला करते थे। गाय व्हिटल और एंडी व्हिटल। गाय व्हिटल एक ऑलराउंडर थे और एंडी व्हिटल एक ऑफ स्पिनर, जो लोअर ऑर्डर पर थोड़ी बहुत बल्लेबाजी भी कर लेते थे। एंडी व्हिटल ने जिम्बाब्वे के लिए 63 वनडे और 10 टेस्ट मैच खेले। उनके गेंदबाजी आंकड़े कुछ खास नहीं हैं। एंडी व्हिटल के नाम महज 7 टेस्ट विकेट हैं और वनडे में उन्होंने 45 विकेट अपने नाम किए। हालांकि उनका इकॉनमी रेट सिर्फ 4.37 था।गाय व्हिटल के चचेरे भाई एंडी व्हिटल इंग्लैंड की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में पढ़ते थे। जहां उन्होंने 1993 में कैम्ब्रिज के लिए डेब्यू किया। पहले ही मैच में उन्होंने 3 विकेट हासिल किये। इसके बाद उन्होंने ससेक्स के खिलाफ भी 3 विकेट झटके। साल 1994 में व्हिटल ने इंग्लैंड में अपना पहला लिस्ट ए मैच खेला।

देश में बिना खेले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाला ये खिलाडी आज कर रहा स्कूल में नौकरी! 10

देश में बिना खेले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाला ये खिलाडी आज कर रहा स्कूल में नौकरी! 11

उन्होंने लैंकशर के खिलाफ डेब्यू किया। 1995-96 में व्हिटल ने 15 फर्स्ट क्लास मैचों में 39 विकेट लिये और साथ ही उन्होंने 312 रन भी बनाए। उनकी इस पारी के बाद जिम्बाब्वे के चयनकर्ताओं ने उन्हें श्रीलंका में होने वाली सिंगर वर्ल्ड सीरीज के लिए टीम में मौका दिया। इस तरह एंडी व्हिटल दुनिया के पहले क्रिकेटर बन गए जो अपने देश में बिना फर्स्ट क्लास मैच खेले ही उसके लिए डेब्यू कर रहा था। इसके बाद 11 सितंबर 1996 को उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो टेस्ट में डेब्यू किया। हालांकि व्हिटल इंटरनेशनल स्तर पर वैसा प्रदर्शन नहीं कर सके, जिसकी उनसे उम्मीद थी।

देश में बिना खेले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाला ये खिलाडी आज कर रहा स्कूल में नौकरी! 12

एंडी व्हिटल का प्रदर्शन भारत के खिलाफ कुछ खास नहीं रहा था। उन्होंने भारत के खिलाफ 9 मैचों में सिर्फ 3 ही विकेट लिये लेकिन 4 सितंबर, 1999 को उन्होंने सचिन को शतक बनाने से रोक दिया था। कोका-कोला सिंगापुर चैलेंज के दूसरे मैच में बारिश के चलते 29-29 ओवर का मुकाबला हुआ और सचिन ने धुआंधार बल्लेबाजी की। सचिन 71 गेंदों पर 85 रन ठोक चुके थे और उनके बल्ले से 3 छक्के और 7 चौके निकले थे लेकिन तभी एंडी व्हिटल की गेंद पर सचिन ने अपना विकेट गंवा दिया और वो शतक से चूक गए। एंडी व्हिटल ने 30 जनवरी, 2000 को अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला और इसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। टीम से बाहर होने के बाद व्हिटल वापस इंग्लैंड लौट गए और आज वो केंट में स्थित टॉनब्रिज स्कूल में नौकरी करते हैं। व्हिटल स्कूल की टीम को क्रिकेट कोचिंग देते हैं और साथ ही उन्हें मैथ्स भी पढ़ाते हैं।