निर्देशक शेखर कपूर ने ईमेल के द्वारा पुलिस को भेजा अपना बयान, बोले- उस के साथ होता था सौतेलो सा व्यवहार!

0
9

दोस्तों बॉलीवुड अभिनेता सुशात सिंह राजपूत के आत्महत्या के मामले को लेकर फ़िलहाल जाँच जारी हैं। पुलिस इस सुसाइड केस की जांच कर रही हैं। हालांकि इन 25 दिनों में अभी तक पुलिस के हाथ कोई ऐसा सुराग नहीं लगा जो इस केस को आगे ले जा सके। पुलिस अब तक इस केस के सिलसिले में 35 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। सूत्रों के मुताबिक ने केस की जांच को आगे बढ़ाते हुए फिल्म निर्देशक शेखर कपूर से ईमेल के जरिए संपर्क किया।

निर्देशक शेखर कपूर ने ईमेल के द्वारा पुलिस को भेजा अपना बयान, बोले- उस के साथ होता था सौतेलो सा व्यवहार! 9

बता दे की शेखर कपूर ने ईमेल कर पुलिस को उनके सभी सवालों का जवाब दिया है। सूत्रों के मुताबिक अपने बयान में उन्होंने बताया कि फिल्म ‘पानी’ के बंद हो जाने की वजह से सुशांत को काफी सदमा लगा था और वो टूटकर डिप्रेशन में चले गए थे।  शेखर कपूर के मुताबिक- ‘फिल्म ‘पानी’ कपूर का ड्रीम प्रोजेक्ट था जिसपर वह पिछले 10 साल से काम कर रहे थे। लेकिन यह प्रोजेक्ट अधूरा ही रह गया।’अपने बयान में निर्देशक ने लिखा-‘साल 2012-13 के दौरान इस 150 करोड़ की बड़ी बजट की फिल्म को लेकर आदित्य चोपड़ा और शेखर की मुलाकात हुई थी, जिसके बाद यह निर्णय लिया गया था कि 2014 में इस फििल्म को बनाया जाएगा। प्री-प्रोडक्शन में 5 से 7 करोड़ रुपये यशराज प्रोडक्शन हाउस ने खर्च किए सुशांत को इस फिल्म में कास्ट करके उनकी डेट्स भी लॉक की जा चुकी थीं।’

निर्देशक शेखर कपूर ने ईमेल के द्वारा पुलिस को भेजा अपना बयान, बोले- उस के साथ होता था सौतेलो सा व्यवहार! 10

शेखर कपूर ने कहा- ‘फिल्म नहीं बनने की जानकारी जब सुशांत को पता चली तो वो टूट गया। इसकी वजह ये थी कि वो शायद मुझसे भी ज्यादा फिल्म में डूब चुका था। उस शाम को वो मेरे पास आया और मुझे पकड़कर मेरे कंधे पर सिर रखकर फूट-फूट कर रोने लगा। उसे रोता देख मैं भी टूट जाता था और मैं भी रोने लगता था। फिल्म के बंद होने का सदमा उसे इतना ज्यादा लगा था कि वो डिप्रेशन में जाने लगा। मैंने उसे संभालने की कोशिश भी की और उसे समझाया कि ये किरदार वो पर्दे पर जिएगा और इसमें निराश होने की जरूरत नहीं है, बस सही वक्त का इंतजार करे।’ शेखर कपूर ने आगे कहा-‘पानी के नहीं बनने उसे डिप्रेशन हुआ जो उसकी प्रोफेशनल जिंदगी में भी परेशानी की वजह बन गया। क्योंकि वो एक एक्टर था जो इंडस्ट्री के बिजनेस को नहीं समझ पा रहा था। कुछ समय बाद मैंने भी भारत छोड़ दिया और लंदन चला गया लेकिन वो लगातार मेरे टच में रहा। हालांकि, मैं उससे ‘पानी’ को लेकर बातें नहीं करता था, क्योंकि वो इससे खुद को उबार नहीं पा रहा था।’

निर्देशक शेखर कपूर ने ईमेल के द्वारा पुलिस को भेजा अपना बयान, बोले- उस के साथ होता था सौतेलो सा व्यवहार! 11

सुशांत के रोल की डिटेल्स का खुलासा करते हुए निर्देशक ने बताया-‘इस फिल्म में सुशांत ‘गोरा’ नामक किरदार निभा रहे थे। सुशांत को यह कैरेक्टर बहुत पसंद आया था वो इस कैरेक्टर में पूरी तरह से घुस चुके थे।  वर्कशॉप के दौरान भी वह अपने कैरेक्टर में ही गुम रहता, अलग सा जुनून था इस फिल्म व कैरेक्टर को लेकर,  इस फिल्म को लेकर प्रोडक्शन से जुड़ी मीटिंग में सुशांत यशराज की टीम के साथ बैठता व सब कुछ बारीकी से समझता।उसने इस प्रोजेक्ट के लिए कई फिल्में भी छोड़ दी थीं।

निर्देशक शेखर कपूर ने ईमेल के द्वारा पुलिस को भेजा अपना बयान, बोले- उस के साथ होता था सौतेलो सा व्यवहार! 12

‘कुछ समय बाद जब हम मिले तो तब तक सुशांत यशराज से अपना कॉन्ट्रेक्ट तोड़ चुका था। उसने मुझे बताया था कि किस तरह अब उसके साथ इंडस्ट्री में सौतेला बर्ताव हो रहा है और सुनियोजित तरीके से उसके हाथ अच्छी फिल्में नहीं लगने दी जा रही हैं। मैंने उसे आश्वस्त किया था कि वो बस काम करता रहे और अच्छी स्क्रिप्ट पर ध्यान दे। उसे उबरने का मौका जल्द मिलेगा।’ पुलिस के सूत्रों की मानें तो शेखर कपूर ने इन सबके अलावा कई और अहम जानकारियां भी अपने ईमेल में शेयर की हैं। हालांकि, उनके फैक्ट्स वेरिफाई किए जाने बाकी हैं, इसलिए उन्हें शेयर नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि शेखर कपूर से कहा गया है कि वो मुंबई आकर अपना बयान दर्ज करवाएं।