सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई रिहा की FIR मुंबई ट्रांसफर करने की मांग की सुनवाई!

0
8

दोस्तों बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो चुकी है। रिया की ओर से पैरवी करने के लिए कोर्ट में वरिष्ठ वकील श्याम दीवान मौजूद हैं वहीं बिहार सरकार का पक्ष वरिष्ठ वकील मनिंदर सिंह रखेंगे। सुशांत के पिता की ओर से वरिष्ठ वकील विकास सिंह और महाराष्ट्र सरकार की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी पैरवी करेंगे। देशभर की निगाहें कोर्ट के फैसले पर टिकी हुई है।

सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई रिहा की FIR मुंबई ट्रांसफर करने की मांग की सुनवाई! 7

बता दे की सुशांत केस में रिया चक्रवर्ती ने पटना में दर्ज FIR को मुंबई ट्रांसफर करने मांग की है। बता दें बिहार के रहने वाले सुशांत सिंह राजपूत का शव मुंबई में उनके घर पर फांसी के फंदे पर लटका हुआ मिला था। अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने इस मामले पर सुनवाई से एक दिन पहले सोमवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि उसे इस मामले में ‘राजनीतिक एजेंडे में बलि का बकरा नहीं बनाया जाना चाहिए।’ बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने मामले की जांच सीबीआई से कराने संबंधी अनुशंसा केंद्र सरकार से की थी जिसे केंद्र सरकार ने स्वीकार किया था। अब इस मामले की जांच सीबीआई के हाथ में है।

सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई रिहा की FIR मुंबई ट्रांसफर करने की मांग की सुनवाई! 8

अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि बिहार पुलिस को मामले की जांच करने का कानूनी अधिकार नहीं है ऐसे में वह जांच सीबीआई को कैसे सौंप सकती है। अगर सुप्रीम कोर्ट मामले की जांच सीबीआई को देता है तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है लेकिन उसमें भी मामले का क्षेत्राधिकार मुंबई का होगा, न कि पटना।

सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई रिहा की FIR मुंबई ट्रांसफर करने की मांग की सुनवाई! 9

रिया चक्रवर्ती ने सुप्रीम कोर्ट में नया हलफनामा दाखिल करते हुए कहा है कि मामले में उनका गलत तरीके से मीडिया ट्रायल चलाया जा रहा है और उन्हें सुशांत सिह राजपूत की मौत का दोषी ठहराया जा रहा है। इस बीच मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रिया ने निगेटिव पब्लिसिटी दूर करने के लिए दो निर्माता-निर्देशकों को फोन भी किया था। वही सुशांत के पिता ने अपनी दलील में कहा है कि हमें मुंबई पुलिस की जांच पर भरोसा नहीं है। हमें न्याय चाहिए। वहीं रिया चक्रवर्ती की तरफ से कहा गया है कि बिहार चुनाव की वजह से केस को तूम दिया जा रहा है।