इरफान खान के बेटे बाबिल ने खोला संजय दत्त से जुड़ा बड़ा राज़, बोले- अब्बा को कैंसर होने पर संजू भाई मदद को आये थे आगे!

0
1801

दोस्तों बॉलीवुड जाने माने अभिनेता संजय दत्त लंग्स के कैंसर से झुंझ रहे है। इस खबर के आने के बाद से उनके चाहने वाले उनके जल्द से जल्द ठीक होने की कामना कर रहे है। इस बीच उनकी हेल्थ से जुड़ी कई खबरें आ रही हैं। अब इरफान खान के बेटे बाबिल ने संजय दत्त और उनके परिवार के सपोर्ट में एक नोट लिखा है। उन्होंने लोगों से  रिक्वेस्ट की है कि उन लोगों को स्पेस मिलना चाहिए। साथ ही बताया है कि जब इरफान को कैंसर को पता चला तो संजय दत्त  मदद को आगे आये थे।

इरफान खान के बेटे बाबिल ने खोला संजय दत्त से जुड़ा बड़ा राज़, बोले- अब्बा को कैंसर होने पर संजू भाई मदद को आये थे आगे! 7

बाबिल ने अपने पोस्ट में लिखा है, राइटर्स सोचते होंगे कि लिखना कैसे शुरू करूं लेकिन मैं राइटर नहीं हूं, इसलिए… मेरा पत्रकारों और लोगों से विनम्र निवेदन है कि कयास न लगाएं। मुझे पता है कि ये आपका काम है लेकिन मुझे ये भी पता है कि हमारी आत्मा में एक मानवता का भाव भी होता है। इसलिए संजू भाई और उनके परिवार को स्पेस दें।

इरफान खान के बेटे बाबिल ने खोला संजय दत्त से जुड़ा बड़ा राज़, बोले- अब्बा को कैंसर होने पर संजू भाई मदद को आये थे आगे! 8

 

बाबिल ने आगे लिखा, यहां एक सीक्रेट बताना चाहता हूं, जब बाबा को कैंसर का पता चला था, संजू भाई उन पहले लोगों में से थे जो हर तरह से मदद करने के लिए आगे आए थे। बाबा के गुजरने के बाद, फिर से संजू भाई उन पहले लोगों में से थे जो सपोर्ट बनकर खड़े हुए। मैं प्रार्थना करता हूं, कृपया उन्हें मीडिया की घबराहट के बिना इससे लड़ने दीजिए।

इरफान खान के बेटे बाबिल ने खोला संजय दत्त से जुड़ा बड़ा राज़, बोले- अब्बा को कैंसर होने पर संजू भाई मदद को आये थे आगे! 9

बाबिल ने लिखा, आपको याद रखना चाहिए कि हम यहां संजू बाबा की बात कर रहे हैं, वह टाइगर हैं, एक फाइटर हैं, पास्ट आपको परिभाषित नहीं करता लेकिन यह आपको निखारता है और मैं जानता हूं कि ये भी बीत जाएगा और संजू बाबा फिर से हिट्स दे रहे होंगे। बता दे की इरफान के अभिनय का कायल सिर्फ बॉलीवुड ही नहीं रहा उन्होंने हॉलीवुड की कई फिल्मों में दमदार भूमिका निभाई। इरफान का अब तक का फिल्मी कॅरियर शानदार रहा है। वैसे तो इरफान की प्रत्येक फिल्म अपने आप में शानदार होती है, लेकिन ‘पान सिंह तोमर’, ‘द लंचबॉक्स’,  ‘तलवार’,  ‘हिंदी मीडियम’,  ‘मकबूल’, ‘स्लमडॉग मिलेनियर’, ‘लाइफ ऑफ पाई’, ‘मुंबई मेरी जान’, ‘साहेब बीवी’ और ‘गैंगस्टर रिटर्नस’ उनकी यादगार फिल्में हैं।