करणी सेना के बाद अब RSS और बीजेपी आई कंगना के समर्थन में, बोले- असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती!

0
91

दोस्तों बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत मुंबई पहुंच चुकी है। वही अभिनेत्री कंगना रनौत का मुंबई के पाली हिल स्थित उनके बंगले पर बीएमसी की तोड़फोड़ की कार्रवाई पर हाई कोर्ट ने बी एम सी को झटका देते हुए रोक लगा दी है। साथ ही इस मामले पर अब बयानबाजी शुरू हो गई है। RSS के अखिल भारतीय सह-प्रमुख रामलाल ने कंगना के बचाव में ट्वीट किया है। बता दें कि बीजेपी सांसद सुब्रमण्यन स्वामी और नेता तेजेंदर पाल सिंह बग्गा ने भी कंगना के समर्थन में ट्वीट किए हैं।

करणी सेना के बाद अब RSS और बीजेपी आई कंगना के समर्थन में, बोले- असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती! 7

करणी सेना के बाद अब RSS और बीजेपी आई कंगना के समर्थन में, बोले- असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती! 8

रामलाल ने ट्वीट कर कहा है, ‘असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती।’ RSS नेता के इस ट्वीट के कई मायने लगाए जा रहे हैं। वही मुंबई के अंधेरी पश्चिम से बीजेपी विधायक अमित साटम ने BMC को कंगना के घर/ दफ्तर पर कार्रवाई करने के बाद उसी तत्परता से सभी अवैध निर्माण कर बुलडोजर चलाने की चुनौती दी है। उन्होंने कहा है, जिस तेजी से कंगना का दफ्तर तोड़ा गया है अब उसी तेजी से सभी अवैध निर्माण को तोड़ना चाहिए। बता दें कि कंगना अपने बंगले पर बीएमसी की कार्रवाई को लोकतंत्र की हत्या बताया था।

करणी सेना के बाद अब RSS और बीजेपी आई कंगना के समर्थन में, बोले- असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती! 9

महाराष्‍ट्र एसपी के नेता अबू आजमी ने कंगना रनौत के खिलाफ अपनी अभद्र टिप्‍पणी का न केवल बचाव किया बल्कि उल्‍टे आरोप लगाया कि क्‍या कंगना महिला हैं तो वह कुछ भी कहेंगी। ऐक्‍शन का रिएक्‍शन तो होगा ही। कंगना ने महाराष्‍ट्र का अपमान किया वह बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा। बॉलिवुड में इस्‍लामिक डोमिनशन के कंगना वाले बयान पर अबू आजमी ने कहा, ‘कंगना का इस्लामिक डोमिनेशन बोलना दिल में चुभता है। वह महिला होकर कुछ भी कहेंगी? कंगना के निशाने पर मुस्लिम हैं। कंगना बीजेपी और आरएसएस की भाषा बोल रही हैं, इसलिए उन्‍हें सिक्‍युरिटी मिली है। यहां लोग मारे जा रहे हैं लोगों को सिक्यॉरिटी नहीं मिल रही। दिल्ली की सरकार वाई श्रेणी की सुरक्षा दे रही है क्योंकि वह आरएसएस की बोली बोल रही हैं। संविधान की भाषा बोली बोलनी चाहिए।’