सब्जी बेच रहे ‘बालिका वधू’ के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- ‘यह बहुत ही दुख की बात है!

0
262

दोस्तों कोरोना वायरस महामारी और उसके कारण 6 महीने से भी अधिक तक चले लॉकडाउन में करोड़ों लोग बेरोजगार हो गए, वही टीवी इंडस्ट्री पर भी पड़ा है जिसके कारन कई लोगो की आर्थिक ख़राब हो गई। बालिका वधु, कुछ तो लोग कहेंगे जैसे मशहूर टीवी सीरियल के डायरेक्टर रामवृक्ष गौड़ परिवार का पेट पालने के लिए सब्जी बेचकर गुजारा कर रहे हैं।

सब्जी बेच रहे 'बालिका वधू' के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- 'यह बहुत ही दुख की बात है! 11

बता दे की ‘बालिका वधू’ सीरियल के डायरेक्टर रहे रामवृक्ष गौड़ भी हाल ही सब्जी बेचते नजर आए। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के रहने वाले रामवृक्ष लॉकडाउन से पहले अपने घर बेटियों की परीक्षा दिलवाने आए थे, लेकिन अब वहीं अटक गए हैं। बीते छह महीने में धीरे-धीरे सारा जमा पूंजी खत्‍म हो गई। मुंबई लौटना मुमकिन नहीं था, इसलिए घर का खर्च उठाने के लिए वह ठेले पर सब्‍जी लेकर सड़कों की खाक छानने निकल पड़े।

सब्जी बेच रहे 'बालिका वधू' के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- 'यह बहुत ही दुख की बात है! 12

रामवृक्ष गौड़ की यह खबर सोशल मीडिया पर तेजी से फैल गई। ‘बालिका वधू’ में आनंदी के ससुर भैरव धरमवीर सिंह का रोल प्ले करने वाले अनूप सोनी को जब इस बारे में पता चला तो उन्होंने तुरंत ही रामवृक्ष गौड़ के बैंक अकाउंट डीटेल पाने की कोशिश शुरू कर दी। उन्हें यह जानकर बहुत दुख हुआ कि उनके सीरियल के एक डायरेक्टर का ऐसा हाल है।

सब्जी बेच रहे 'बालिका वधू' के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- 'यह बहुत ही दुख की बात है! 13

अनूप सोनी ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी कि उनकी टीम रामवृक्ष की मदद करने के लिए उनसे संपर्क करने की कोशिश कर रही है। ट्वीट में अनूप सोनी ने लिखा, ‘यह बहुत ही दुख की बात है। हमारी ‘बालिका वधू’ की टीम को इस बारे में पता चला और वह मदद के लिए उनसे संपर्क करने की कोशिश कर रही है।’

सब्जी बेच रहे 'बालिका वधू' के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- 'यह बहुत ही दुख की बात है! 14

एक रिपोर्ट के अनुसार, जब इस बारे में अनूप सोनी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा, ‘उनके बारे में बहुत से लोगों को इसलिए मालूम नहीं था क्योंकि वह एक सेकंड यूनिट डायरेक्टर थे। मुझे ‘बालिका वधू’ की टीम से पता चला है कि वह रामवृक्ष की बैंक अकाउंट डीटेल पाने की कोशिश कर रही है। रामवृक्ष का मुंबई में घर है और वह बहुत ही स्वाभिमानी व्यक्ति हैं। टीम उनसे बात कर रही है और तय किया गया है कि जैसे ही रामवृक्ष गौड़ के बैंक अकाउंट की डीटेल मिल जाएगी, तो उनकी हर संभव तरीके से मदद की जाएगी, जैसे भी वह चाहेंगे।’

सब्जी बेच रहे 'बालिका वधू' के डायरेक्टर की मदद को आगे आई शो की टीम, अनूप सोनी बोले- 'यह बहुत ही दुख की बात है! 15

रामवृक्ष बताते हैं कि मुंबई में उनका अपना मकान है, लेकिन दो साल पहले बीमारी के कारण उनका परिवार घर आ गया था।कुछ दिन पूर्व एक फिल्म की रेकी के लिए वे आजमगढ़ आए। वे काम कर ही रहे थे कि कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन लग गया। इसके बाद उनकी वापसी संभव नहीं हो पाई। काम बंद हुआ तो आर्थिक संकट खड़ा हो गया।प्रोड्यूसर से बात की तो उन्होंने बताया कि प्रोजेक्ट पर एक से डेढ़ साल बाद ही काम शुरू हो पाएगा। फिर उन्होंने अपने पिता के कारोबार को अपनाने का फैसला किया और आजमगढ़ शहर के हरबंशपुर में डीएम आवास के पास सड़क के किनारे ठेले पर सब्जी बेचने लगे। इससे परिवार आसानी से चल जा रहा है। बचपन में भी वे अपने पिता के साथ सब्जी के कारोबार में मदद करते थे, इसलिए यह काम उन्हें सबसे बेहतर लगा, वे अपने काम से संतुष्ट हैं।