जब 15 साल की रेखा को बताये डायरेक्टर ने फिल्म डाल दिया किसिंग सीन, एक्टर ने जबरदस्ती 5 मिनिट तक रेखा को किया था किस!

0
40

दोस्तों अपने ज़माने की पॉपुलर अभिनेत्री रेखा ने हाल ही में 10 अक्टूबर रेखा ने अपना 65 वा जन्मदिन मनाया हैं। रेखा ने अपने समय में कई सुपरहिट फिल्मो में काम किया है और उस समय की पॉपुलर अभिनेत्रियों में शामिल रही है लेकिन उनकी जिंदगी काफी उतार-चढ़ाव रही। फिल्म इंडस्ट्री में रेखा को 54 साल हो चुके हैं  इंडस्ट्री में बतौर बाल कलाकार रेखा ने 11 साल की उम्र में कदम रखा था। इसके बाद वह 15 साल की उम्र में फिल्म ‘अंजाना सफर’ में भी दिखी थीं। लेकिन उनका सफर कभी आसान नहीं रहा। इस फिल्म से जुड़ा एक किस्सा काफी चर्चाओं में रहा है।

जब 15 साल की रेखा को बताये डायरेक्टर ने फिल्म डाल दिया किसिंग सीन, एक्टर ने जबरदस्ती 5 मिनिट तक रेखा को किया था किस! 7

आपको बता दे की इस फिल्म के सेट पर हुई एक घटना ने रेखा को अंदर तक झंझोड़ कर रख दिया था। इस घटना का जिक्र उनकी बायोग्राफी रेखा: द अनटोल्ड स्टोरी में भी किया गया है। यासेर उस्मान की लिखी इस किताब में बताया गया है कि 1969 में आई ‘अंजाना सफर’ की शूटिंग मुंबई के महबूब स्टूडियो में चल रही थी। राजा नवाथे डायरेक्टर और सिनेमेटोग्राफर थे। एक दिन फिल्म के हीरो बिश्वजीत और हीरोइन रेखा पर एक रोमांटिक सीन फिल्माया जाना था।

जब 15 साल की रेखा को बताये डायरेक्टर ने फिल्म डाल दिया किसिंग सीन, एक्टर ने जबरदस्ती 5 मिनिट तक रेखा को किया था किस! 8

सीन की शूटिंग से पहले इसे लेकर सारी स्ट्रेटजी बना ली गई। जैसे ही डायरेक्टर ने ‘एक्शन’ कहा, बिश्वजीत ने रेखा को बाहों में भरा और उन्हें किस करने लगे। यह देखकर रेखा सन्न रह गईं। उन्हें सीन में इस किस के बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं दी गई थी। रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म के डायरेक्टर ने 15 बार इस सीन के बाद कट बोला था, लेकिन विश्वजीत लगातार रेखा को किस करते रहे और उन्होंने रेखा को कसकर पकड़ कर रखा था।

जब 15 साल की रेखा को बताये डायरेक्टर ने फिल्म डाल दिया किसिंग सीन, एक्टर ने जबरदस्ती 5 मिनिट तक रेखा को किया था किस! 9

जैसे-तैसे रेखा ने विश्वजीत से खुद को छुड़वा। इसके बाद रेखा घंटो तक रोती रहीं। इस बात का खुलासा रेखा की बायोग्राफी पर लिखी बुक ‘रेखा: दा इनटाइटल स्टोरी’ में भी हुआ है।इस घटना के बारे में बिश्वजीत ने बाद में कहा था, यह डायरेक्टर का आइडिया था। उनकी कोई गलती नहीं थी क्योंकि वह तो डायरेक्टर के निर्देशों का पालन कर रहे थे। यह एन्जॉयमेंट के लिए नहीं था, बल्कि सीन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा था।