मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर!

0
8

दोस्तों बॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘सौदागर’ से डेब्यू करने वाली मनीषा कोइराला 51 साल की हो गई है। उनका जन्म 16 अगस्त, 1970 को नेपाल के काठमांडू में हुआ था। उनके पिता का नाम प्रकाश कोइराला और मां का सुषमा कोइराला है। पिता नेपाल में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। वे नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री बिश्वेश्वर प्रसाद कोइराला की नातिन हैं। उनका एक भाई है सिद्धार्थ, जो कुछेक बॉलीवुड फिल्मों में नजर आया है।

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 15

बता दें कि मनीषा के माता-पिता उनके फिल्मों में काम करने के खिलाफ थे। सिर्फ उनकी दादी ने ही सपोर्ट किया था। 10वीं की शिक्षा खतम करने के बाद इनको साल 1989 में आचनक से एक नेपाली फ़िल्म में काम करने का मोका मिला। बाद में वह डॉक्टर बनने की ख्वाहिश लेके आगे की पढ़ाई पूरी करने के लिए दिल्ली चली गई लेकिन उस समय वह खुद भी नहीं जानती थी की उनकी किस्मत में डॉक्टर बनना नहीं बल्कि एक कामयाब अभिनेत्री बनना लिखा था।दिल्ली आने के बाद इनको मॉडलिंग से ऑफर आने लगे मॉडलिंग करते करते इनको लगा की इनको एक्टिंग की तरफ भी ध्यान देना चाहिए और एक्टिंग में भी इनका अच्छा फ्यूचर बन सकता है।

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 16 मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 17

90 के दशक में डायरेक्टर सुभाष घई फिल्म ‘सौदागर’ बना रहे थे। इस मूवी के लिए उनको नए फेस की जरूरत थी। फिल्म के लिए उन्होंने दिलीप कुमार और राज कुमार जैसे बड़े सुपार स्टार्स को पहले ही साइन किया हुआ था। मनीषा को कही से इन सब के बारे में पता चला और उन्होंने जाकर डायरेक्टर से मुलाकात की। आख़िरकार स्क्रीन टेस्ट में पास होने के बाद उन्हें इस फिल्म में कास्ट कर लिया गया। इसमें उनके साथ विवेक मुशरान लीड रोल में थे।

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 18

बता दें की फिल्म ‘सौदागर’ उस साल की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर साबित हुई और पहली ही फिल्म ने मनीषा को रातों रात सुपर स्टार बना दिया। इसके बाद उन्होंने कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया। इस फिल्म के बाद उन्होंने ‘फर्स्ट लव लेटर’, ‘यलगार’, ‘इंसानियत के देवता’, ‘अनमोल’, ‘मिलन’ जैसी फिल्मों में काम किया। इनमे से कुछ फिल्में हिट गई और कुछ ज्यादा चल नही पाई लेकिन इसके बावजूद भी मनीषा ने कभी हार नहीं मानी और निरंतर आगे बढती चली गई।

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 19

1994 में आई फिल्म ‘1942 ए लव स्टोरी’ ने मनीषा के करियर को ऊंचाइयों तक पहुंचाने का काम किया। बाद उन्होंने ‘क्रिमिनल’, ‘बॉम्बे’, ‘अकेले हम अकेले तुम’, ‘दुश्मन’, ‘अग्निसाक्षी’, ‘गुप्त’, ‘दिल से’, ‘कच्चे धागे’और ‘मन’ जैसी हिट फिल्मों में काम किया। एक्टिंग करियर की शुरुआत में मिले स्टारडम को मनीषा बरकार नही रख पाई। इसके बाद उनकी कुछ फिल्में बुरी तरह फ्लॉप हो गई जिससे वह अंदर से टूट गई और खुद को संभाल नहीं पाईं। वक्त ने ऐसा मोड़ लिया की वह तनाव में चली गई तनाव की वजह से मनीषा को ड्रग्स और शराब की भी लत लग गई। उनकी इस बुरी आदत की वजह से उन्हें फिल्में मिलना भी धीरे-धीरे कम हो गईं। इन बुरी आदतों की वजह से उनकी सेहत भी काफी खराब हो गई थी।

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 20

मनीषा कोइराला ने पार किया 50 का पढ़ाओ, पहली फिल्म ने बना गई थी सुपरस्टार, कैंसर ने बिगाड़ दिया एक्ट्रेस का करियर! 21

बता दे की अभिनेत्री मनीषा का सबसे बुरा समय तब आया जब उन्हें खुद का कैंसर जैसी घातक बीमार से ग्रस्त होने का पता चला लेकिन मनीषा ने हार नहीं मानी और पहले काठमांडू और बाद में मुंबई में इलाज करवाया। उनकी शादीशुदा लाइफ भी सही नहीं साबित हुई,मनीषा की शादी नेपाल के सम्राट दहल से हुई थी लेकिन जल्द ही उनका तलाक भी हो गया। हालातों से अकेले लड़ते-लड़ते वह ओवेरियन कैंसर के इलाज के लिए अमेरिका चली गईं। यहाँ चार साल तक चले इलाज के बाद आख़िरकार उन्होंने इस बीमारी को मात दे दी। आज बेशक वह फिल्मों से दूरी बना चुकी हैं लेकिन उनकी फिल्में देखना फैन्स आज भी पसंद करते हैं।