मठ के प्रभारी नारायण दास के आग्रह पर फिर खोज, दो बार में मिल चुकी हैं 19 टन वजनी चांदी की 564 सिल्लियां!

0
7

दोस्तों देश के ओडिशा प्रदेश में पुरी स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर में एक बार फिर खजाने की खोज शुरू हो गई है। मंदिर के दक्षिण-पूर्वी कोने में स्थित एमार मठ में मेटल डिटेक्टर से लैस पुरातत्वविदों की टीम गुरुवार से खजाना खोजने में लगी है। अब तक इससे पहले दो बार में 19 टन वजनी चांदी की 564 सिल्लियां मिल चुकी हैं। मंदिर के उत्तर-पार्श्व मठ के महंत और एमार मठ के प्रभारी नारायण रामानुज दास ने यह आग्रह किया था। इसके बाद यह तलाश शुरू हुई है।

मठ के प्रभारी नारायण दास के आग्रह पर फिर खोज, दो बार में मिल चुकी हैं 19 टन वजनी चांदी की 564 सिल्लियां! 7

मठ के प्रभारी नारायण दास के आग्रह पर फिर खोज, दो बार में मिल चुकी हैं 19 टन वजनी चांदी की 564 सिल्लियां! 8

मठ के प्रभारी नारायण दास के आग्रह पर फिर खोज, दो बार में मिल चुकी हैं 19 टन वजनी चांदी की 564 सिल्लियां! 9

मठ से जुड़े लोगों और इतिहासकारों का दावा है कि मंदिर परिसर की जमीन के भीतर हीरे-जवाहरात दबे हैं। इस 12वीं शताब्दी के मंदिर के एक कमरे से 2011 में 18 टन चांदी की 522 सिल्लियां मिली थीं। तब उसकी कीमत 90 करोड़ रुपए थी। मठ से चांदी का पेड़, चांदी के फूल, 16 प्राचीन तलवारें और गाय की कांसे की मूर्ति भी मिली थीं। यही नहीं, इसी साल अप्रैल में 42 सिल्लियां और मिली थीं।