सूर्यवंशी’ में विलेन को मुस्लिम दिखाए जाने पर उठाए गए सवाल, तो रोहित शेट्टी ने दिया करारा जवाब!

0
8

दोस्तों बॉलीवुड अक्षय कुमार और कटरीना कैफ स्टारर रोहित शेट्टी की फिल्म सूर्यवंशी बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही है। फिल्म को ऑडियंस का जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है लेकिन फिल्म में मुस्लिम विलेन दिखाने पर बवाल भी हो रहा है। ऐसे में रोहित शेट्टी ने ट्रोलर्स को करारा जवाब देते हुए पूछा है कि उनकी फिल्मों में हिंदू विलेन होने पर पहले विवाद क्यों नहीं किया गया।

सूर्यवंशी' में विलेन को मुस्लिम दिखाए जाने पर उठाए गए सवाल, तो रोहित शेट्टी ने दिया करारा जवाब! 7

सूर्यवंशी में मुस्लिम विलेन पर हो रही कंट्रोवर्सी पर जवाब देते हुए रोहित शेट्टी ने अपने एक इंटरव्यू में कहा कि फिल्म बनाते समय किसी जाति या धर्म के एक्टर को विलेन बनाने पर कोई विचार नहीं किया गया था। Quint संग इंटरव्यू में रोहित शेट्टी से सूर्यवंशी में बेड मुस्लिम-गुड मुस्लिम के नैरेटिव के बारे में पूछा गया। इस पर रोहित शेट्टी ने कहा- ‘अगर मैं आपसे सवाल पूछूं कि जयकांत शिकरे का रोल (सिंघम) में प्रकाश राज ने निभाया, जो हिंदू हैं। सिंघम, सिंघम रिटर्न्स और सिम्बा में हिंदू विलेन थे। सिंबा में ध्रुवा रानाडे का किरदार सोनू सूद ने निभाया, जो एक मराठी हैं। जब इन फिल्मों में तीनों विलेन ही हिंदू थे तब समस्या क्यों नहीं थी।’

सूर्यवंशी' में विलेन को मुस्लिम दिखाए जाने पर उठाए गए सवाल, तो रोहित शेट्टी ने दिया करारा जवाब! 8

रोहित ने सफाई देते हुए आगे कहा- अगर कोई आतंकवादी पाकिस्तान से है तो उसकी कास्ट क्या होगी? हम कास्ट की बात नहीं कर रहे हैं। रोहित शेट्टी ने कहा कि कुछ सेग्मेंट्स के लोगों को इससे समस्या हो रही है, लेकिन फिल्म बनाते समय उन्होंने इस तरह से नहीं सोचा था। उन्होंने कहा- एक सोच के साथ यह फिल्म बनाई गई है। हमने ऐसा कभी नहीं सोचा था। इसकी चर्चा क्यों की जा रही है।

सूर्यवंशी' में विलेन को मुस्लिम दिखाए जाने पर उठाए गए सवाल, तो रोहित शेट्टी ने दिया करारा जवाब! 9

उन्होंने आगे कहा- एक बुरे और अच्छे इंसान को कास्ट से क्यों जोड़ा जा रहा है? जब हमने मेकर्स होते हुए ऐसा कभी नहीं सोचा। अगर यह गलत होता तो हर कोई इसके बारे में बात करता लेकिन सिर्फ कुछ ही लोग बोल रहे हैं। यह उनका नजरिया है, जिसे उन्हें बदलने की जरूरत है। हमें नहीं। इंटरव्यू में रोहित शेट्टी ने कहा कि वो अपनी ऑडियंस को बखूबी जानते हैं और वो इस बात का ध्यान रखते हैं कि उनकी भावनाएं हर्ट ना हों। कंट्रोवर्सी किसी भी चीज पर हो सकती है. वो सिर्फ अपनी टारगेट ऑडियंस को कंफर्टेबल महसूस कराने पर फोकस करते हैं।