लाहौर से वाघा बॉर्डर पहुंचे विंग कमांडर अभिनंदन, लेकिन आखिरी वक्त में पाकिस्तान कर गया ये चालाकी !

0
25579

मिग-21 विमान क्रैश होने के बाद पाकिस्तान में बंदी बनाए गए भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की स्वदेश वापसी हो गई है। उन्हें वाघा बॉर्डर के जरिए भारत वापसी की। वाघा वॉर्डर आ चुके हैं। फिलहाल उनकी मेडिकल जांच चल रही है।

पूरा देश कर रहा है स्वागत विंग कमांडर के स्वागत में यहां लोग ढोल-नगाड़े, पोस्टर और हार-फूल लेकर हजारों लोग पहुंचे। बता दें कि सोमवार को भारतीय सीमा में घुस आए पाकिस्तानी विमानों का पीछा करते हुए अभिनंदन अपने मिग-21 विमान से एलओसी के पार चले गए थे। इसी दौरान उनका विमान क्रैश हो गया था। जिसके बाद वे वहीं पर सेना की गिरफ्त में फंस गए थे। पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा था कि हमारी ओर से शांति के कदम के तौर पर अभिनंदन को शुक्रवार को रिहा कर दिया जाएगा। इससे पहले भारत ने पाक से कहा था कि वह तत्काल और बिना शर्त अभिनंदन को रिहा करे।

भारत के साथ पाकिस्तान कर गया चालाकी – दरअसल, भारत ने अभिनंदन को वाघा बॉर्डर पर हर दिन होने वाली बीटिंग द रिट्रीट सेरेमेनी से पहले सौंपने को कहा था। पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने खुद संसद में कहा था कि अभिनंदन को दोपहर दो बजे तक भारत को सौंप दिया जाएगा।

– लेकिन पाकिस्तान ने जानबूझकर इसे शाम चार बजे तक बढ़ा दिया। अब बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी के बाद ही अभिनंदन वाघा के रास्ते भारतीय सीमा में दाखिल हो सकेंगे।

लाहौर के रास्ते वाघा बॉर्डर में प्रवेश करते विंग कमांडर अभिनंदन

वायुसेना के रिटायर्ड जूनियर वारंट ऑफिसर भास्कर मिश्रा के मुताबिक, ‘वाघा बॉर्डर पर पहुंचने पर अभिनंदन की उनके परिवार से कुछ देर की ही भेंट होगी। सबसे पहले एयर फोर्स की टीम अभिनंदन का मेडिकल टेस्ट करेगी। जांच में अगर मिलता है कि पाक में उनके साथ कोई ज्यादती, टॉर्चर या फिजिकल हैरेसमेंट किया गया है तो इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसायटी उनकी जांच करेगी और इसके बाद इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में पाकिस्तान के खिलाफ मुकदमा किया जाएगा।’

उन्होंने बताया, जांच करने के बाद अभिनंदन का बयान लिया जाएगा कि वहां उनके साथ क्या-क्या हुआ? उनसे वहां क्या पूछताछ हुई और क्या उन्होंने वहां सेना से जुड़ी कोई जरूरी जानकारी बताई? अगर अभिनंदन ने वहां कोई खुलासे किए होंगे, तो उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी लेकिन उन्हें कभी वायुसेना का अध्यक्ष नहीं बनाया जाएगा। अगर जांच में सबकुछ ठीक निकलता है तो अभिनंदन को ड्यूटी ज्वाइन करने या फिर घर जाने की अनुमति होगी।