दिल्ली में ही मौजूद है हनीप्रीत, गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट में दायर की अग्रिम जमानत याचिका

0
460

एक महीने से गायब बलात्कारी राम रहीम की सबसे बड़ी राजदार हनीप्रीत दिल्ली में है. गिरफ्तारी से बचने के लिए हनीप्रीत की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट में जमानत याचिका दायर की गयी है. हनीप्रीत के वकील की ओर से दायर याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने मंजूर कर लिया. कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई के लिए दोपहर दो बजे का व्कत तय किया है.

हनीप्रीत ने अपनी अर्जी में क्या कहा?
हाई कोर्ट में हनीप्रीत की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि मेरी जान को खतरा है. मैं बचपन से डेरे से जुड़ी रही हूं, राम रहीम की बेटी होना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. हरियाणा पुलिस ने मेरा नाम वॉन्टेड लिस्ट में डाला हुआ है.”

हनीप्रीत ने अर्जी में कहा, ”जिस तरह से मीडिया में मेरा चरित्र हनन किया गया, मेरे पास कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के अलावा कोई चारा नहीं था. मेरे खिलाफ कोई मामला नहीं है, जबरन मामला बनया जा रहा है.”

हनीप्रीत ने अपनी अर्जी में कहा, ”मैं अकेली हूं और मेरा पिछला रिकॉर्ड बिल्कुल साफ है. मैं जांच में शामिल होना चाहती हूं. मैं कोर्ट की इजाजत के बिना देश के बाहर भी नहीं जाऊंगी. मेरी दरख्वास्त है कि मुझे तीन हफ्ते की अग्रिम जमानत दी जाए.”

ट्रांजिट अग्रिम जमानत का मतलब होता है कि ट्रांजिट के दौरान गिरफ्तारी नहीं होगी। देशद्रोह के मामले में हनीप्रीत ने अग्रिम ट्रांजिट बेल की मांग की थी ताकि दिल्ली से हरियाणा जाने के दौरान गिरफ्तारी न हो। सुनवाई के दौरान हरियाणा पुलिस ने अग्रिम ट्रांजिट बेल का विरोध किया था। वहीं दिल्ली पुलिस ने कहा कि हनीप्रीत को इस मामले में पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाना चाहिए था। दोनों ही राज्यों की पुलिस ने तीन हफ्ते के अग्रिम ट्रांजिट बेल का विरोध करते हुए कहा था कि यह मामला पंजाब ऐंड हरियाणा हाई कोर्ट के जूरिस्डिक्शन का है।

मंगलवार को सुबह हनीप्रीत की याचिका को अति आवश्यक आधार पर सुनवाई के लिए ऐक्टिंग चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी. हरिशंकर के सामने पेश किया गया था। तब कोर्ट ने हल्के अंदाज में सवाल किया था कि आप इतने उत्साहित क्यों दिख रहे हैं। यह मामला एक साधारण केस की तरह है। आप इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट क्यों आए हैं। तब हनीप्रीत के वकील ने कहा था कि मामले में उनकी मुवक्किल को खतरा है तब कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए केस को सिंगल बेंच के सामने भेज दिया था।

हरियाणा पुलिस ने रामर हीम को दोषी करार दिए जाने के बाद हिंसा फैलाने के मामले में 43 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया हुआ है इनमें हनीप्रीत भी शामिल है। वह फरार है जिसकी तलाश हरियाणा पुलिस को है। राम रहीम को 25 अगस्त को पंचकुला की अदालत ने रेप के दो मामले में दोषी करार देते हुए सजा सुनाई थी। 10-10 साल कैद की सजा सुनाई थी। इसके बाद वहां हिंसा हुई थी और 41 लोगों की जान चली गई थी। जब 25 अगस्त को राम रहीम सजा सुनाई गई थी उस वक्त राम रहीम के साथ हनीप्रीत मौजूद थी।