Tuesday, July 5, 2022
HomeHindiसाधारण से चेहरे वाला फोन बूथ ऑपरेटर ने अपने अभिनय के दम...

साधारण से चेहरे वाला फोन बूथ ऑपरेटर ने अपने अभिनय के दम पर बॉलीवुड से साउथ तक बनाई अपनी खास पहचान!

दोस्तों साउथ फिल्मों की सबसे बड़ी खूबसूरती यही है कि यहां चेहरे और शारीरिक बनावट से ज्यादा अभिनय को महत्व दिया जाता है। साउथ सिनेमा के कई सुपरस्टार ऐसे हैं जो अपनी बॉडी के मामले में बॉलीवुड स्टार्स से भले ही पीछे हों लेकिन अपने अभिनय से उन्होंने बहुत बड़ी पहचान बना ली है। विजय सेतुपति ऐसे ही प्रतिभाशाली अभिनेताओं में से एक हैं। विजय सेतुपति की कई साउथ फिल्मों ने हिंदी पट्टी के दर्शकों तक को अपना दीवाना बना लिया। उनकी रोमांटिक फिल्म ‘96’ को पूरे भारत के दर्शकों ने खूब प्यार दिया।

साउथ फिल्मों के एक जाने-माने इस अभिनेता का पूरा नाम विजय गुरुनाथ सेतुपति कालीमथु है। एक शानदार अभिनेता होने के साथ-साथ उन्हें एक निर्माता, गीतकार और संवाद लेखक के रूप में भी जाना जाता है। विजय को उनकी अदाकारी के लिए पसंद किया जाता है। उन्होंने अपनी अदाकारी के साथ हमेशा नए नए प्रयोग किए और हर बार सफल हुए। 16 जनवरी 1978 को तमिलनाडु के राजपलायम में जन्मे विजय सेतुपति के लिए यहां तक पहुंचना किसी सपने जैसा था। वह एक ऐसे सामान्य परिवार में जन्में जिसका फिल्मी दुनिया से दूर दूर तक कोई नाता नहीं था।

विजय लाखों आम लोगों की तरह सिनेमा प्रेमी जरूर थे। उनके मन में इच्छा थी कि वह भी फिल्मों का हिस्सा बनें लेकिन घर की आर्थिक तंगी और उनके साधारण लुक ने हमेशा उन्हें पीछे की ओर धकेला। हालांकि विजय ने कभी हार नहीं मानी और सही मौके का इंतजार करते रहे। चेन्नई के कोडंबक्कम के एमजीआर हायर सेकंडरी स्कूल से अपनी प्रारम्भिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद विजय ने चेन्नई के ही धनराज बैड जैन कॉलेज से बी. कॉम तक की पढ़ाई की। उन्होंने शुरुआती दौर में कई फिल्मों के लिए ऑडिशन भी दिए लेकिन उन्हें हर बार ये कहा गया कि उनके अभिनय में दम नहीं है। विजय इस क्षेत्र में ज्यादा समय नहीं डे सकते थे क्योंकि उनके परिवार की स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी। उन्होंने पढ़ाई के समय से ही काम करना शुरू कर दिया। कहा जाता है कि विजय सेतुपति ने एक अकाउंटेंट के रूप में भी काम किया।

विजय पढ़ाई के समय से ही अपने जेब खर्चों के लिए परिवार पर आश्रित नहीं रहे। उन्होंने कभी सेल्समैन, कभी होटल के कैशियर तो कभी टेलीफोन फोन बूथ ऑपरेटर के तौर पर काम किया। इधर कॉलेज की पढ़ाई पूरी हुई और उधर विजय ने अकाउंटेंट की नौकरी शुरू कर दी। आगे चल कर विजय ने अपने तीन भाई बहन की जिम्मेदारी उठाने के लिए दुबई जाने का फैसला किया। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें पता था कि दुबई में उन्हें भारत के मुकाबले ज्यादा पैसे कमाने का मौका मिलेगा।

किसे पता था कि जो विजय छोटी छोटी नौकरियों से गुजारा कर रहे हैं उन्हें किसी दिन पूरा देश जानेगा। उनकी नियति ही थी जिसने उनका मन दुबई में नहीं लगने दिया। उनका मन दुबई में नहीं लगा और वह भारत वापस लौट आए। यहां तक भी विजय को फिल्मों में कुछ बेहातर होने की उम्मीद नहीं थी। उन्होंने अपने दोस्त के साथ इंटीरियर डेकोरेशन का बिजनेस शुरू किया। विजय की किस्मत ने सफलता की तरफ तब रुख किया जब मार्केटिंग कंपनी में जॉब करते हुए उनकी मुलाकात निर्देशक बाबू महेंद्र से हुई। बाबू ने विजय को फ़ौर से देखा और भांप लिया कि उनमें बहुत प्रतिभा है। इसके बाद उन्होंने विजय को अभिनय के क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। उनका कहना था कि विजय का चेहरा फोटोजेनिक है।

विजय ने बाबू की बात मानी और अभिनय के क्षेत्र में कदम बढ़ाना शुरू कर दिया। शुरुआत में उन्हें स्पोर्टिंग रोल मिले। विजय की किस्मत बदली 2010 में, जब उन्हें कई सारी शॉर्ट फिल्मों में काम करने के अलावा  फिल्म थेनमर्कु परुवाकाटरू में एक बड़ा रोल मिला। यहां से विजय के अभिनय की गाड़ी चल पड़ी और धीरे धीरे उन्हें फिल्मों के ऑफर मिलने लगे। साल 2012 में आई फिल्म ‘सुंदरपंडिअन’ में विजय ने विलेन का रोल निभाते हुए साउथ फिल्म जगत को ये बता दिया कि वह किसी भी रोल में आसानी से उतर सकते हैं। लगभग 90 फिल्मों में काम कर चुके विजय ने कम ही समय में दर्शकों के दिल में गहरी जगह बना ली।

विजय को 96 जैसी फिल्म में लवार बॉय के रूप में देखा गया तो वहीं उन्होंने विक्रम वेधा और मास्टर जैसी फिल्मों में खलनायक का किरदार निभा कर महफ़िल लूट ली। वह सुपर डीलक्स में लाल साड़ी पहन कर जब पर्दे पर नजर आए तो दर्शकों को अपने एक अलग ही रूप से परिचित करवाया।विजय ने अपने अभिनय के साथ जितने प्रयोग किये वह उन सब में सफल रहे। उन्हें बेहतरीन एक्टिंग के लिए कई अवॉर्ड भी मिल। विजय की कामयाबी का आलम ये है कि वह जल्द ही मैरी क्रिसमस नामक फिल्म में बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्रियों में गिनी जाने वाली कैटरीना कैफ के साथ बतौर हीरो नजर आएंगे। बता दें कि विजय अपनी पत्नी जेस्सी से ऑनलाइन मीडिया के जरिए मिले। यहीं से दोनों के बीच प्यार हुआ और फिर 2003 में इन्होंने जेस्सी सेतुपति से शादी कर ली। तब तक विजय कामयाब नहीं हुए थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments