वर्ल्डकप में मैन ऑफ द मैच रहने वाला भारतीय खिलाड़ी बेच रहा हे छोले-भठूरे, देखिये…

0
283

विश्व क्रिकेट में खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए अंडर-19 विश्वकप के तौर पर एक मंच दिया जाता है ताकि जूनियर खिलाड़ी अंतराष्ट्रीय क्रिकेट खेल कर अच्छा प्रदर्शन कर सकें। वो उस प्रतियोगिता में अच्छा प्रदर्शन करके यह बता सकें कि वो सीनियर टीम में आने के लिए तैयार हैं। दुनिया में तमाम ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने अंडर-19 लेवल पर बेहतरीन प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं में अपना लोहा मनवाया और सीनियर टीम में जगह बनाई।

इन्हीं में कुछ ऐसे खिलाड़ी होते हैं जो सीनियर लेवल पर ऐसा प्रदर्शन कर देते हैं जो बहुत ही सराहनीय होता है, जिसका ताजा उदाहरण हैं भारत के कप्तान 2008 विश्‍व विजेता टीम के कप्‍तान विराट कोहली, क्रिस गेल (1998 के शीर्ष स्‍कोरर), युवराज सिंह (2000 में प्‍लेयर ऑफ द टूर्नामेंट)।
विराट ने भारतीय टीम की तरफ से 2008 में श्रीलंका के खिलाफ दांबुला में पदार्पण किया और फिर पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। वह अब भारतीय टीम के कप्‍तान है, और वर्ल्ड के सबसे आचे बल्लेबाजो में से एक हे हाल उन्हें सिमित ओवरों का कप्तान भी नियुक्त किया गया है।

हम आज बात कर रहे 2008 में अंडर-19 विश्वकप विजेता भारतीय टीम की। विराट कोहली, मनीष पांडे, रविंद्र जडेजा और सौरभ तिवारी जैसे प्रतिभावान खिलाड़ियों से सजी उस टीम के कई खिलाड़ी वर्तमान में सीनियर टीम का हिस्सा रहे हैं, जिनमें से विराट तो अब कप्तान भी नियुक्त किये जा चुके हैं और रविंद्र जडेजा भी भारतीय टीम के नियमित सदस्य बन चुके हैं और अपने प्रदर्शन से देश और परिवार का नाम रोशन कर रहे हे ।
उस टीम के कुछ खिलाड़ी ऐसे थे जो अब क्रिकेट से दूर हो चुके हैं, जिसकी वजह या तो उनका निरंतर अच्छा प्रदर्शन न कर पाना रहा या कुछ व्यक्तिगत कारण रहे।
अजितेश अरगल
फाइनल में सात रन देकर दो विकेट लेकर मैन ऑफ द मैच बने अरगल का करियर आगे काफी निराशाजनक रहा। वह अंडर-19 के अपने प्रदर्शन को आगे नहीं दोहरा सके। युवा प्रतिभावान गेंदबाज ने बडौदा की तरफ से केवल 10 मैच खेले सके । वह राज्‍य टीम के भी नियमित सदस्‍य नहीं बन सके थे।अजितेश वर्तमान में वडोदरा आयकर विभाग में बतौर इंस्पेक्टर काम कर रहे हैं।
पैरी गोयल
 पैरी गोयल पंजाब टीम के खिलाड़ी और भारतीय अंडर-19 टीम के दूसरे विकेटकीपर थे। उन्‍होंने अपना आखिरी प्रथम श्रेणी मैच 2010 में  खेला था। आज वो बेरोजगार हैं। खबरें ऐसी हैं कि उन्होंने लुधियाना नगर निगम के पास फास्ट फूड की शॉप खोली हुई है। उस दुकान पर चाउमीन छोले बटुरे जैसी चीजे बेच रहे के अपना गुज़ारा कर रहे हे वो ।