कोई लोकल ट्रेन से तो कोई साइकिल से, सेट पर पहुंचने के लिए कुछ यूं सफर करते हैं टीवी स्टार्स!

0
568

दोस्तों बॉलीवुड हो टीवी जगत के सितारे हो सभी अपनी लग्ज़री लाइफ के लिए जाने जाते है इन सितारों के पास लाखो करोड़ो की गाड़िया होती है जिससे वो अक्सर अपने फिल्म या शो के सेट पर जाते है लेकर निकलते हैं, लेकिन कुछ स्टार्स ऐसे भी हैं जो सेट पर पहुंचने के लिए साइकिल और लोकल ट्रेन का सहारा लेते हैं। आखिर दिखावे से दूर ये स्टार्स साइकिल और ट्रेन से सफर क्यों करते हैं? इस बारे में स्टार्स खुद कर रहे हैं खुलासा।

 रोहिताश गौड़

टीवी के पोपुलर शो भाभीजी पर है के मनमोहन तिवारी शो के चर्चित किरदार है, लेकिन बता दे की वे शो के सेट पर पहुचन के लिए local ट्रेन का उपयोग करते है उनका कहना हा की ”मुझे लगता है मुंबई लोकल ट्रेन से सफर करना सबसे आसान होता है, क्योंकि सड़क पर ट्रैफिक काफी ज्यादा बढ़ गया है। मैं गोरेगांव में रहता हूं, जबकि ‘भाबीजी घर पर हैं’ का सेट मुंबई से सटे नायगांव में है। सेट पर जाने के लिए ज्यादातर लोकल ट्रेन से ही सफर करता हूं। ट्रेन में अलग-अलग तरह के लोग मिलते हैं, जिनकी कहानियां सुनकर सफर कब कट जाता है, पता ही नहीं चलता।”

 रतन राजपूत

टीवी की दुनिया की चेहेती लाली यानी रतन राजपूत जो अभी ‘जय के संतोषी’ मां में प्रमुख किरदार निभा चुकी है उनका कहना है की जब मैं ‘संतोषी मां’ सीरियल कर रही थी, उस समय गोरेगांव पश्चिम में रहती थी और मेरा सेट नायगांव में लगा था। उस समय कई बार घर लौटते वक्त लोकल ट्रेन से या अपनी हेयर स्टाइलिश की स्कूटी से आती थी। हर इंसान अपनी कार में अकेला बैठा बोर हो जाता है इसलिए मैंने लंबे सफर की परेशानी को कम करने और आसान बनाने के लिए यह तरीका निकाला था।

करण सूचक

टीवी के चर्चित शो टीवी शो ‘मेरी हानिकारक बीवी’ के अभिनेता करण सूचक टीवी जगत के जाने माने अभिनेता बन चुके है, करण भी शो के सेट पर अपनी साइकिल से जाना पसंद करते है उनका कहना हा की  मैं कांदिवली में रहता हूं, जबकि टीवी शो ‘मेरी हानिकारक बीवी’ का सेट मेरे घर से 10 से 12 किलोमीटर दूर गोरेगांव फीचर स्टूडियो में है। मुंबई में 10 किमी की दूरी भी सड़क से तय करने में एक घंटा लग जाता है। चूंकि 12 घंटे काम और आने-जाने में दो घंटा लग जाता है। ऐसे में वर्कआउट करने के लिए समय ही नहीं मिलता है। साइकिल से सफर करने से अपने आपको फिट रखने का मौका मिलता है। दूसरी बात यह है कि समय की भी बचत होती है। साइकिल से 40 मिनट में ही पहुंच जाता हूं।

 राहुल सुधीर

हमारा सेट जयपुर में लगा है। यहां अलग-अलग लोकेशन पर शूटिंग चलती है। सुबह तो गाड़ी में आता हूं, लेकिन अलग-अलग लोकेशन पर पहुंचने के लिए साइकिल से जाता हूं। साइकिल चलाकर अपने बचपन में लौट जाता हूं, इससे थोड़ा मूड भी अच्छा हो जाता है। दरअसल कैमरा टीम के एक साथी साइकिल लेकर आते थे। उनसे ही मैंने साइकिल मांग ली। पहले भी सेट पर आने-जाने के लिए ट्रेन से ही सफर करता था।

अदनान खान

टीवी जगत के शो ‘इश्क सुभान अल्लाह’ के अभिनेता अदनान खान भी शो के सेट लोकल ट्रेन से जाना पसंद करते है उनका कहना है की मैं बांद्रा में रहता हूं और ‘इश्क सुभान अल्लाह’ का सेट मीरा रोड में है। सुबह घर से ट्रेन से आता और रात को ट्रेन से जाता था। ट्रेन में बैठकर आराम से सफर करने का मजा की कुछ और होता है। खिड़की से ताजी हवा और पेड़-पौधों का नजारा देखने को मिलता है।