बेहद संघर्षपूर्ण रही है तारक मेहता के अब्दुल की ज़िंदगी, 50 रुपये रोज़ में किया है काम!

0
12

दोस्तों टीवी जगत के पॉपुलर शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो ने पिछले 13 सालो से ज्यादा समय लोगो का मनोरंजन कर रहा है और इसके सभी कलाकार अब बहुत प्रसिद्ध हो गए हैं। हालाँकि, इनमें से अधिकांश कलाकारों का प्रारंभिक जीवन बहुत संघर्षपूर्ण रहा है। इनमे शो में अब्दुल के किरदार में नज़र आने वाले अभिनेता शरद सांकला का नाम भी शामिल है।

बेहद संघर्षपूर्ण रही है तारक मेहता के अब्दुल की ज़िंदगी, 50 रुपये रोज़ में किया है काम! 7

बता दे की शो में ‘अब्दुल’ का किरदार निभाने वाले शरद सांकला ने जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए काफी मेहनत की है। हालांकि शरद ने 35 से ज्यादा फिल्में और शो किए हैं, लेकिन उन्हें अपनी पहचान बनाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। हालांकि, आज मुंबई में इसके अपने दो रेस्टोरेंट हैं। शरद ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1990 में ‘वंश’ के साथ की थी। इस फिल्म में शरद ने चार्ली चैम्पिन की भूमिका निभाई थी। इस तरह रोल बहुत छोटा था, हालांकि इस फिल्म में शरद को 50 रुपये प्रतिदिन मिल रहे थे। इसके बाद से शरद खिलाड़ी, ‘बाजीगर’ और ‘बादशाह’ जैसी कई फिल्मों में नजर आ चुके हैं, लेकिन उसके बाद से उन्हें आठ साल तक बिना काम के रहना पड़ा।

बेहद संघर्षपूर्ण रही है तारक मेहता के अब्दुल की ज़िंदगी, 50 रुपये रोज़ में किया है काम! 8

आपको बता दे अभिनेता शरद ने एक इंटरव्यू में कहा, “उन्होंने आठ वर्षों के बीच कई प्रोडूसर के दरवाजे खटखटाए।” नाम के बावजूद नौकरी नहीं मिली। लेकिन मुझे इंडस्ट्री में रहना था इसलिए मैंने सहायक, कोरियोग्राफर और कास्टिंग डायरेक्टर के रूप में काम करना शुरू कर दिया। कुछ कैमियो रोल भी किए। लेकिन कुछ बड़ा हासिल नहीं हुआ। शरद ने आगे बताया की , “मेरे कॉलेज के दिनों में, निर्माता असत मोदी और मैं एक ही बेंच पर थे।” वह मुझे व्यक्तिगत और पेशेवर रूप से जानते थे। एक दिन उन्होंने मुझे ‘अब्दुल’ की भूमिका के लिए ऑफर दिया। मेरे पास हां कहने के अलावा कोई चारा नहीं था। शुरुआत में मैं महीने में 2-3 दिन शूटिंग करता था। लेकिन यह किरदार काफी लोकप्रिय हुआ और आज लोग मुझे शरद नहीं बल्कि अब्दुल के नाम से जानते है।

बेहद संघर्षपूर्ण रही है तारक मेहता के अब्दुल की ज़िंदगी, 50 रुपये रोज़ में किया है काम! 9

शरद मुंबई में एक्टिग के अलावा दो रेस्टोरेंट भी चलाते हैं। इसका एक रेस्टोरेंट ‘पार्ले पॉइंट’ जुहू में है और दूसरा ‘चार्ली कबाब’ अंधेरी में है। शरद ने कहा, ‘मुज पर अपनी पत्नी और बच्चे के लिए जिम्मेदारी है। और न जाने ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ कब तक चलेगा। इसलिए आपको निवेश करना होगा। मैंने पैसे के लिए संघर्ष किया है। मैं नहीं चाहता कि मेरे परिवार के सदस्य भी संघर्ष करें। मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चे अच्छी तरह से पढ़ें और अपने तरीके से सफल हों।” मुंबई में जन्मे शरद की शादी को 25 साल हो चुके हैं। उनकी पत्नी का नाम प्रेमिला सांक्ला है, जो एक गृहिणी हैं। शरद की बेटी कृतिका 18 साल की है और कॉलेज में है। बेटा मानव 12 साल का है और स्कूल जा रहा है।