Tuesday, July 5, 2022
HomeHindiगैर मर्द को न छूने की वजह से लीला मिश्रा को जिंदगी...

गैर मर्द को न छूने की वजह से लीला मिश्रा को जिंदगी भर मिले मां, मौसी और नानी के किरदार , कभी नहीं किया ऑन स्क्रीन रोमांस!

दोस्तों फिल्म जगत के कई पॉपुलर फिल्मे रही जिनको लोग आज अभी पंसद करते है साथ ही इन फिल्मो के कुछ ऐसे किरदार रहे जिनकी वजह से उस किरदार को निभाने वाले कलाकार को बहुत प्रसिद्धि मिली। ऐसी ही एक कलाकार थीं लीला मिश्रा। 80 साल की उम्र में 17 जनवरी, 1988 में लीला मिश्रा का निधन हुआ था। आज लीला मिश्रा की पुण्यतिथि है। फिल्म शोले ने लीला को मौसी के रूप में घर-घर मशहूर कर दिया। अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री लीला मिश्रा का जन्म 1908 में उत्तर प्रदेश के रायबरेली के एक गांव में हुआ था।

लीला जब 12 साल की हुईं तो उनकी शादी राम प्रसाद मिश्रा से कर दी गई। वे साइलेंट फिल्मों में करैक्टर आर्टिस्ट थे। राम प्रसाद जब मुंबई आए तो लीला को भी साथ में ले आए। अपने करियर में 200 से ज्यादा फिल्में करने वाली लीला मिश्रा ने करियर की शुरुआत 40 के दशक में की थी। पहली फिल्म के लिए उन्हें 500 रुपये मिले थे।

लीला मिश्रा बेहद खूबसूरत अभिनेत्री थीं लेकिन उन्होंने कभी कोई लीड रोल नहीं निभाया। ऐसा नहीं था कि उन्हें लीड रोल ऑफर नहीं हुए बल्कि उन्होंने करने से ही मना कर दिया था। इसके पीछे की वजह कही जाती है लीला मिश्रा को पराए मर्दों का छूना बिल्कुल भी पसंद नहीं था। यही वजह थी कि वो हमेशा ही मां, मौसी, नानी और चाची वाले किरदारों में ही नजर आती थीं।

लीला मिश्रा को आज भी चश्मे बद्दूर, प्रेम रोग, शोले, आवारा, प्यासा, नदिया के पार, परिचय, सौदागर, मां का आंचल, जय संतोषी मां, बैराग जैसी कई फिल्मों के लिए जाना जाता है। पर्दे पर हमेशा मां और मौसी का किरदार निभाने वाली लीला मिश्रा असल जिंदगी में 17 की उम्र में ही मां बन गई थीं। और 18 साल की छोटी उम्र से ही वे ऑन स्क्रीन मां का किरदार निभाने लगीं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments